Chamba News : चंबा का गांव 1 सप्ताह से पेयजल संकट से जुझ रहा

Drinking water shortage in Salooni

Drinking water shortage in Salooni : गर्मियों का पारा चढ़ने के साथ पेयजल किल्लत भी बढ़ने लगी है। जिला चंबा के सलूणी उपमंडल की ग्राम पंचायत लनोट का गांव धनेली 1 सप्ताह से पेयजल संकट से जूझ रहा है।

भडेला, ( भारद्वाज ): जिला चंबा के कुछ गांव में पेयजल(drinking water) संकट पैदा हुआ है लेकिन जलशक्ति विभाग लोगों की परेशानी को दूर करने में रूचि नहीं दिखा रहा। यही वजह है कि लोगों में विभाग की कार्यशैली को लेकर रोष(Fury) पैदा होने लगा है। डलहौजी विधानसभा क्षेत्र के उपमंडल सलूणी की ग्राम पंचायत लनोट के गांव धनेली में ऐसी ही स्थिति बनी हुई है।

ग्रामीणों में सुमित्रा देवी, नीलू, दीपक, देवकी, सुमित्रा, पिंकी, साबो व आशा कुमारी का कहना है कि अफसोस की बात है कि एक सप्ताह से उन्हें अपनी तथा अपने मवेशियों की प्यास बुझाने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी की सुविधा मुहैया नहीं हाे रही। इस परेशानी बारे ग्रामीणों ने जलशक्ति(jal shakti) विभाग के कर्मचारियों सहित पंचायत प्रतिनिधियों को बताया लेकिन समसया जस की तस बनी हुई है।

ग्रामीणों ने रोष प्रकट किया कि हर बार गर्मियों का मौसम यह पेयजल किल्लत की समस्या लेकर आता है लेकिन विभाग ने अभी तक गंभीरता नहीं दिखाई है। यही वजह है कि उन्हें गांव से करीब 1 किलोमीटर दूरी पर मौजूद छोटी सी बावड़ी से पानी भरकर पीठ पर उठाकर लाना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि पेयजल किल्लत की वजह से उन्हें अपनी दिनचर्या(daily routine) को अंजाम देने में भी दिक्कत पेश आ रही है।

ये भी पढ़ें : जिला चंबा का मौसम राहत पहुंचा रहा।

लोगों का कहना है कि इस समस्या से पार पाने को पंचायत प्रधान से इस बारे बात की गई तो उन्होंने बताया कि उन्होंने विभाग के कर्मचारियों व अधिकारियों को सूचित किया है लेकिन कोई भी सुनवाई नहीं हो रही। ग्रामीणों का कहना है कि उन्होंने अपने स्तर पर स्थानी फिटर(fitter) को सूचित किया तो वह हर बार जल्द स्थिति सामान्य होने की बात कह कर अपना पल्ला झाड लेता है। महिलाओं का कहना है कि उन्हें दिन में कई बार गांव से बावड़ी(Stepwell) की दूरी तय करने को मजबूर होना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें : तैयारियां आधी अधूरी, फिर यह सेंटर खोलना क्यों जरुरी।

तेज गर्मी के बीच पेयजल को पीठ पर उठाकर लाने की वजह से उन्हें मानसिक परेशानी छेलनी पड़ रही है। घर के प्रत्येक सदस्य को पानी ढोने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। जो मवेशी चल सकते हैं उन्हें तो बावडी तक लाया जा रहा है लेकिन जो चल नहीं पाते हैं उनके लिए भी पानी ढोना पड़ रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि जब भी गर्मियों का मौसम आता है तो उस वक्त उन्हें इस तरह की परेशानी पेश आती है जबकि सरकार जलजीवन मिशन को लेकर बड़ी-बड़ी बाते करती है।

ये भी पढ़ें : जिला चंबा में बड़ी वाहन दुर्घटना घटी।

Related Posts